माँ

माँ को लब्जों में जो पिरोने बैठा मैं लेके कलम हाथ में कलम भी टूट के बोली माँ को बयां करना नहीं है मेरी ओकात में

Advertisements