हमारा स्वार्थ

सो बार कोसा ऊपर वाले को फूटी किस्मत की खातिर पर सर ना झुका दरबार में  बे पनाह रहमत की खातिर -अनिरुद्ध शर्मा

Advertisements