माँ

दम निकल जाता है बुरे अरमान का जब दिखता हे माँ मे चेहरा भगवान का -अनिरुद्ध शर्मा

Advertisements

मातृ दिवस

दिन गुजरता है प्यारा देखु सुबह मुखड़ा जो माँ का और आज के दिन की ना पूछो , आज तो माँ मुझे सुबह ही दुलार कर रही थी भय दूर हो जाता है कोसो और कठिनाई दम तोड़ देती है अपने आशीर्वाद से माँ मेरा आत्मविश्वास तैयार कर रही थी जीवन छोटा पड़ जाता हैं … Continue reading मातृ दिवस