जिस्म की नुमाइश

हुनर तो कुछ बचा नही बस जिस्म की नुमाइश बची है संस्कृति छोड़ ईमान छोड़ बस पैसे की होड़ मची है -अनिरुद्ध शर्मा