देश प्रेम

मेरे देश प्रेम से जमाने को बड़ी नफरत है हर कोई पूछ डालता है "क्या यही तेरी दौलत है " -अनिरुद्ध शर्मा

Advertisements

देश द्रोही

हर शख्स यही कह बैठता है लालच की आड़ में " अपनी सोच, देश गया भाड में " -अनिरुद्ध शर्मा