हम सब भारतीय है

इस जातिवाद से तो अपनी काया कोसों दूर थी हमें ईद पसंद थी उन्हें दिवाली मंजूर थी --------- अब तो ना ईद खुशी से मनती हे ना दिवाली उमंग से मचा हे चारों तरफ कोहराम दंगों के हुडदंग से ---------- पहले इंसानियत मजहब हुआ करती थी अब जानवर मजहब बताते हैं जानवर ही क्या रंग … Continue reading हम सब भारतीय है

Advertisements