चरित्र का चोला

यूँ मेरे चोले को देख मेरी पहचान ना कर ये तो मैला ही रहता है मन अपना मैं साफ़ रखता हूँ यही तो इंसान का चरित्र कहता है -अनिरुद्ध शर्मा

Advertisements

इंसान का मोल

पैंसे से इंसान को तोला नही जाता और चरित्र का मान बोला नही जाता -अनिरुद्ध शर्मा