अपने रिश्तों को मजबूत रखना

Advertisements

मेरे देश को शांति पसंद है 

आसमान धुंधला है और समाज जल रहा है क्यों कहते हो कि मेरा देश बदल रहा है  दंगा फसाद, भ्र्ष्टाचार फैला है सब जगह  कैसे मान लूँ की अच्छे दिनों का दौर चल रहा है  बाहर कदम रखा था कि खुशियां लेकर आऊंगा  पर जहां भी कदम रखु , वहीं कदम फिसल रहा है  ये … Continue reading मेरे देश को शांति पसंद है 

कंप्यूटर से मोबाइल तक

अब आप मेरी सारी कवितायेँ अपने मोबाइल पर भी आसानी से पढ़ सकते हैं बस नीचे दिए गए पते से मेरे एंड्राइड एप को अपने मोबाइल पर इनस्टॉल करें और आनंद लें. एप का पता